शारदीय नवरात्र पूजन, पाठ विधि, फल, महत्व/महालया/कन्या पूजन/महामंत्र/ पूजन सामग्री

शारदीय नवरात्र आश्विन शुक्ल की प्रतिपदा से नवमी तिथि तक मनाते हैं। नवरात्र मुख्य रूप से दो होते – वासन्तिक और शारदीय। वासन्तिक में भगवान विष्णु की उपासना प्रधान होती है और शारदीय में शक्ति की उपासना। वैसे दोनों नवरात्र मुख्य एवं व्यापक हैं। दोनों में दोनों का उपासना बहुत ही महत्वपूर्ण है, आस्तिक लोग दोनों की उपासना करते हैं।More

करेंट अफेयर्स 1अक्टूबर 2021 हिंदी में/Current Affairs 1st Oct’21 in hindi

विश्व मुस्कान दिवस हर साल अक्टूबर महीने के पहले शुक्रवार को मनाया जाता है। अमेरिका के एक आर्टिस्ट हार्वे बॉल को सबसे पहले यह दिवस मनाने का विचार आया था। हार्वे बॉल ने ही सबसे पहले स्माइल फेस आइकन बनाए थे, जिसे आज हम मैसेज भेजने में इस्तेमालकरते हैं।ऋवर्ल्ड स्माइल डे मनाने की पीछे का मुख्य उद्देश अभी तक मुस्कुराने या हंसने का महत्व समझाना हैMore

स्वादिष्ट और हेल्दी पोहा बनाने की विधि हिंदी में/How to Make delicious and healthy Poha/Recipe of Poha in Hindi

कम समय में तैयार होने वाला सबसे अच्छा और हेल्दी नाश्ता है पोहा। महाराष्ट्र और इंदौर के साथ उत्तर भारत के लोग भी पोहे को नाश्ते में चाव।से खाते हैं। यह हल्का और हेल्दी नाश्ता है और इसे भारत में कई तरीकों से बनाया और खाया जाता है।More

स्वास्थ्य, भोजन और जीवनशैली से जुड़े जरूरी बातें, जाने हिंदी में/ Health, diet and lifestyle related important facts in hindi

स्वास्थ्य का सार है, खाने-पीने में नियम से चलने वाला, प्रतिदिन व्यायाम (exercise) करने वाला, भोग-विलास में संयम रखने वाले लोग कभी बीमार नहीं होते।More

ऋषि पंचमी का महत्व, व्रत विधि और कथा

भाद्रपद शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि ‘ऋषि पंचमी’ कहलाती है। और इस दिन किये जाने वाले व्रत को ऋषि पंचमी-व्रत कहते हैं। इस व्रत में सभी ऋषियों सहित माता अरूंधति का भी पूजन होता है। समस्त ज्ञात-अज्ञात पापों के शमन हेतु स्त्री-पुरुष इस व्रत को करते हैं।More

हरितालिका तीज कथा, विधि, महत्व और दान

भाद्र मास शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को भारत वर्ष में सुहागिन स्त्रियाँ हरितालिका व्रत करते हैं। सुहागिन स्त्रियां हरतालिका तीज का व्रत अखण्ड़ सौभाग्य और सुखमय वैवाहिक जीवन की प्राप्ति हेतु करती हैं।More

अजा एकादशी परिचय, कथा, पूजन विधि, महत्व और फल

भारत त्योहारों और उत्सवों का देश है। उत्सव के अवसर पर व्रत करने की प्रथा भी प्रचलित है। अक्सर लोग पूछा करते हैं- “ यदि त्योहार समाज को संगठित करने और खुशीयां मनाने के लिए होते हैं, तो उसमें भूखे रहने की क्या औचित्य है?” More

रक्षा बंधन की धार्मिक व ऐतिहासिक पृष्ठभूमि और पूजन विधि

इस दिन बहनें ईश्वर से अपने भाई की कलाई में मंगल कामना (दीर्घायु, सुख-समृद्धि आदि) करते हुए राखी या रक्षा सूत्र बांधती है। भाई अपनी रक्षा सूत्र बांधने पर बहनों वचन देतें हैं की, वे अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाह करेंगे, हर विपत्ति-बाधा से बहन की रक्षा करेंगेMore

कामिका एकादशी कथा, पूजन विधि और पूजा-व्रत फल

भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की एकादशी को कामिका एकादशी कहते हैं। ब्रह्मांड पुराण वर्णित कथानुसार राजा हरिश्चन्द्र बड़े ही महान, सत्यनिष्ठ और दृढ़व्रती थे। राजा हरिश्चंद्र को अपने जीवनकाल में अपनी सत्यनिष्ठता के कारण अनेक प्रकार कष्ट उठाने पड़े। More

भारत के प्रथम स्वतन्त्रता सेनानी महावीर अझगूमुत्थु कोणे यादव की अमर कहानी (Maveeran Alagumuthu Kone Yadav)

महान सेनानायक और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के प्रथम स्वतंत्रता सेनानी महावीरन श्री अझगू मुत्थू कोणे यादव का जन्म 11 जुलाई, 1710 ई. में तमिलनाडु के, कोट्टालंकुलम गांव, कोविलपट्टी के टूटीकोरिन जिले में हुआ था। अझगू मुत्थु कोणार यादव को सर्वइकरार के नाम से भी जाना जाता है।More