Featured

षट्तिला एकादशी

माघ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को षट्तिला एकादशी (Shattila Ekadashi) कहते हैं। पद्म और विष्णु पुराण के अनुसार माघ मास के एकादशी और द्वादशी को श्री हरी विष्णु जी का तिल से पूजा और व्रत का बहुत महत्व है।More

Featured

किसान नेता चौधरी राकेश सिंह टिकैत

किसान नेता राकेश टिकैत आज किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। वे उन किसान नेताओं में शुमार रखते हैं, जो किसानो के व्यवहारिक हित की बात रखते हैं और किसान हित के लिए खड़े भी होते हैं। More

Featured

कैसे पाये 100 साल तक चुस्त और स्वस्थ्य काया

कैसे पाये लम्बे समय तक चुस्त और स्वस्थ्य काया हमारे जीवन में खाने का बहुत महत्व है ये तो सभी जानते है। लजीज खाने हर दिल को अजीज होते हैं। हमारे दैनिक जीवन के खानपान और दिनचर्या ( daily routine) ही हमारे शरीर को भविष्य (future) के लिए तैयार करते है। स्वस्थ्य और निरोगी शरीर…More

विश्व विवाह दिवस ( World Marriage Day)

फरवरी माह के दूसरे रविवार को विश्व विवाह दिवस मनाया जाता है। यह दिन पति-पत्नी के प्रेम संबंध प्रगाढ़ बनाने और रिश्तों में ताजगी और मिठास लाने का एक प्रयास है। इस दिन दंपत्ति आजीवन सुख-दुख में हर परिस्थिति में एक-दूसरे का साथ निभाने का वादा करते हैं। 1993 में पोप सेंट पौल द्वितीय ने…More

क्यों मनाया जाता है, वैलेंटाइंस डे,क्या है 14 फरवरी के बलिदान की कहानी ?

14 फरवरी यानि वैलेंटाइंस डे या प्यार का दिन है। वैसे तो प्यार या प्रेम जैसी भावना की अभिव्यक्ति किसी दिन या मूहुर्त की मोहताज नहीं होती। प्यार करने वालों के लिए हर दिन प्यार दिवस होता है। More

कैसे है देसी घी सेहत का खजाना ?

भारत में घी का रसोई से लेकर धार्मिक अनुष्ठान और आयुर्वेदिक उपचार में महत्वपूर्ण स्थान है। घी भोजन के स्वाद (taste) बढ़ाने के साथ ही स्वास्थ्य (health) दृष्टि से भी उत्तम होता है।More

Biography and life changing Quotes of Swami Vivekanand

वेदांत और योग का पश्चिमी देशों में डंका बजाने वाले स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता के बंगाली परिवार में हुआ था। माता-पिता ने नाम रखा नरेन्द्रनाथ दत्त। More

कच और देवयानी की प्रेम कथा

उन दिनों त्रिलोक पर अधिकार करने के लिये देवताओं और असुरों के बीच संग्राम होते थे । देवताओं के पथ प्रदर्शक गुरु वृहस्पति थे और असुरों के गुरु शुक्राचार्य थे। More

सावित्री बाई फुले (1831-1897)

दकियानूसी परंपराओं को तोड़ हिंदू धर्म, सामाजिक व्यवस्था, कुरीतियों, शूद्रों-अतिशूद्रों के साथ अन्याय और महिलाओं की स्थिति को आधुनिक भारत में पहली बार जिस महिला ने चुनौती दीMore